Saturday, November 23, 2013

क्या केजरीवाल की पोल खुल गई है ?

भारत की अन्य राजनैतिक पार्टियों से अपने आप को अलग है बताने वाली आम आदमी पार्टी आज उसी कतार में आकर खड़ी हो गई है जहां पर पार्टी हीत सर्वोपरि और करोड़पतियों की कतार पार्टी की खेवनहार होते है। केंद्रीय आलाकमान से अलग, लाल बत्ती से परहेज, बिना सुरक्षा बल के प्रचार प्रसार करने से लेकर आलीशान सरकारी बंगले से अलग रहने का वादा करने वाली पार्टी आज कटघरे में खड़ी है। आम आदमी पार्टी का कहना है की उनकी पार्टी का कोई भी सांसद और विधायक 25000 से ज्यादा वेतन नहीं लेगा। साथ ही पूर्ण वित्तीय पारदर्शिता के साथ कार्य करेगी तथा करोड़पतियों को टिकट नहीं देगी। मगर आज इन दावों की पोल खुल गई है। अगर इन आकड़ों पर गौर करें तो आम आदमी की दावे सिर्फ हवा हवाई ही नज़र आती है।  

आम आदमी पार्टी की सबसे अमीर उम्मीदवार है शाजिया इल्मी। शाजिया इल्मी और उनके पति के पास लगभग 32 करोड़ रुपये की चल-अचल संपत्ति है। इनके अलावा उत्तम नगर से प्रत्याशी देशराज राघव के पास 12 करोड़ रुपये की संपत्ति, नरेला से चुनाव लड़ रहे बलजीत सिंह मान के पास 8 करोड़ 67 लाख रुपये, महरौली के नरेंद्र सिंह के पास 3 करोड़ 7 लाख रुपये, मादीपुर से गिरिश सोनी के पास 1 करोड़ 25 लाख रुपये, राजौरी गार्डन से प्रीतपाल सिंह के पास 1 करोड़ 70 लाख रुपये, तिलक नगर से जरनैल सिंह के पास 1 करोड़ 70 लाख रुपये, विकासपुरी से महेन्द्र यादव के पास 1 करोड़ 57 लाख रुपये, कालकाजी से धर्मवीर सिंह के पास 1 करोड़ 4 लाख रुपये की चल-अचल संपत्ति है। आप के 34 प्रत्याशियों में से लगभग 45 फीसदी उम्मीदवार करोड़पति हैं। अब आप खुद समझ गये होगें कि इस पार्टी की दावे और हकीकत में कितना जयादा आकाश पताल का अंतर है।

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल कल तक दूसरी पार्टियों के नेताओं और करोड़पतियों की पोल खोलते दिखाई दे रहे थे, मगर आज उनकी पार्टी ही करोड़पतियों को टिकट देकर चर्चा में है। दुसरों को नैतिकता कि पाठ पढ़ाने वाले अरबिंद केजरीवाल 2002 से 2004 के बिच 2 साल की पढ़ाई करने देश के पैसे से विदेश गए लेकिन वहां से लौटे, तो इन्हें नौकरी से विरक्ति हो गई। ज्ञान लेने के बाद कानूनन इन्हें दो साल तक नौकरी में रहते हुए देश की सेवा करनी चाहिए थी, लेकिन इन्होंने नहीं की। एनजीओ बनाकर जनता की जज्बात से खेलने लगे। क्या यह कानून का उल्लंघन नहीं था? क्या ये देश की जनता के धन के साथ धोखा नहीं था?

केजरीवाल ने अन्ना का भी केवल यूज ही किया। अन्ना के साथ रहते हुए वे राजनीति का विरोध करते रहे और जब देखा कि अब उनके खेल के मुताबिक, माहौल तैयार हो चुका है, तो राजनीतिक पार्टी लेकर मैदान में उतर आए। तो वहीं भ्रष्टाचार और अमीरों की राजनीति पर अंगुली उठाने वाली शाजिया इल्मी अब सवालों के घेरे में हैं। 30 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति की मालकिन लाखों करोड़ों के वारे न्यारे करते स्टिंग ऑपरेशन में नजर आ रहीं हैं। तो वहीं दुसारी ओर कुमार विश्वास कवि सम्मेलन करने के लिए कैश पैसे लेकर आयकर नियमों कि धज्जियां उड़ाते हुए कैमरे में कैद हो चुके है। इल्मी वीडियो में रिपोर्टर से कहती नजर आती हैं कि पार्टी नकद में ही चंदा स्वीकार करती है। वित्तीय पारदर्शिता की दावा करने वाली पार्टी नकद चंदा स्वीकार कर ये सबित कर दिया है कि पैसे की लेन देन में वे कितना पारदर्शी है। मगर अब सच्चाई सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी खुद ही कातिल खुद ही मुंसिफ कि भूमिका में नजर आ रही है।

इन सब के अलावे आम आदमी पार्टी ने एफआईआर की सेंचुरी पूरी कर ली है। अब तक आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में कुल 359 एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी हैं, इनमें आम आदमी पार्टी के खिलाफ सबसे ज्यादा 100 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं। केजरीवाल विदेशों से सैकड़ों करोड़ो रूपये चंदा लेने के मामले से अभी उबरे भी नहीं थे कि आचानक आई स्टिंग ऑपरेशन ने केजरीवाल की रही सही दावे भी दुनिया के सामने उजागर हो गई। तो ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्या केजरीवाल की पोल खुल गई है

विवादों में आम आदमी पार्टी

  • अरविंद केजरीवाल ने बरेली में दंगा भड़काने के आरोपी धार्मिक नेता मौलाना तौकीर रजा से मुलाकात कर चुनाव में प्रचार में मदद और समर्थन मांगा।
  • केजरीवाल की पार्टी पर विदेशों से फंड मिलने का आरोप लग चुका है कोर्ट के आदेश पर सरकार ने जांच के आदेश दिया है।
  • भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया है कि अरब देशों में नागरिकों के बीच विद्रोह फैलाने के लिए पैसे देने वाले संस्थान ने ही आप को चार लाख डॉलर की आर्थिक मदद दी है।
  • समाजसेवी अन्ना हजारे आंदोलन के दौरान जुटाए गए धन के पार्टी द्वारा गलत इस्तेमाल पर नाराजगी जाहिर कर चुके है।
  • अन्ना हजारे अरबिंद केजरीवाल पर उनके नाम पर सिम कार्ड बेचने का आरोप लगाया है।
  • धर्म के नाम पर मुस्लिम मतदाताओं से वोट मांगने पर चुनाव आयोग ने अरविंद केजरीवाल को नोटिस जारी किया है।
  • स्टिंग ऑपरेशन में आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों व नेताओं पर चुनावी खर्च के लिए बेनामी धन लेने पर रजामंदी जताने, अवैध संपत्ति विवादों में मदद के वादे जैसे आरोप लगा चुका है।
  • शीला दीक्षित ने अरविंद केजरीवाल पर मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया है।
  • पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने केजरीवाल पर दो करोड़ रुपये लेकर बदरपुर सीट का टिकट बेचने का आरोप लगाया है।
  • अरविंद केजरीवाल द्वारा किए जा रहे एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान अन्ना के एक समर्थक ने केजरीवाल पर धोखाधड़ा का आरोप लगा कर स्याही फेंकी।
  • अरबिंद केजरीवाल 2002 से 2004 के बिच 2 साल की पढ़ाई करने के लिए सरकारी पैसे से विदेश गए थे, लेकिन वहां से लौटेने के बाद षर्तो के अनुसार नौकरी करनी थी मगर उन्होने नहीं किया।

No comments:

Post a Comment